बलिउड

Sushant Singh Rajput’s brother-in-law Vishal Kirti Reprimanded therapist for disclose medical information about the actor | थेरेपिस्ट ने सुशांत को बताया बाइपोलर डिसऑर्डर से पीड़ित, भड़के जीजा ने पूछा- ‘इतने जल्दी कैसे पता लगा लिया’, रिया चक्रवर्ती पर भी दागे सवाल

32 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

सुशांत सिंह राजपूत के साथ विशाल कृति। फोटो 2014 की है। आखिरी बार दोनों की मुलाकात जुलाई 2017 में तब हुई थी, जब विशाल भारत यात्रा पर आए थे।

  • थेरेपिस्ट सुसान वॉकर ने एक इंटरव्यू में सुशांत सिंह राजपूत को लेकर कहा था कि वे बाइपोलर डिसऑर्डर से जूझ रहे थे और रिया मां की तरह उनका ख्याल रख रही थीं
  • विशाल सुशांत की बहन श्वेता सिंह कृति के पति हैं, उन्होंने सवाल उठाया कि थेरेपिस्ट ने दो महीने से भी कम समय में सुशांत के बाइपोलर डिसऑर्डर का पता कैसे लगाया?

सुशांत सिंह राजपूत के जीजा विशाल कृति ने थेरेपिस्ट सुसान वॉकर को फटकार लगाई है, जिन्होंने एक इंटरव्यू में अभिनेता को मानसिक रूप से बीमार बताया था। सुसान के मुताबिक, सुशांत डिप्रेशन और बाइपोलर डिसऑर्डर से जूझ रहे थे। विशाल कृति ने उनके इस स्टेटमेंट के जवाब में लंबा सा ब्लॉग लिखा है। उनकी मानें तो थेरेपिस्ट का इस तरह किसी की मेंटल हेल्थ के बारे में खुलकर बात करना न केवल अनैतिक है, बल्कि अवैध भी है। साथ ही सवाल उठाया है कि उन्होंने इतने जल्दी उनके बाइपोलर डिसऑर्डर का पता कैसे लगा लिया?

विशाल सुशांत की बहन श्वेता सिंह कृति के पति हैं, जो अमेरिका में सेटल हैं। उन्होंने लिखा है, “मेंटल हेल्थ की जानकारी कानून के दायरे में आती है। किसी साइकैट्रिस्ट/ साइकोलॉजिस्ट द्वारा इसे उजागर करना न केवल अनैतिक है, बल्कि अवैध है। मैं यह अपने ससुर केके सिंह पर छोड़ता हूं कि वे इस मामले में थेरेपिस्ट पर चार्जेस लगाते हैं या नहीं?”

इतने जल्दी बाइपोलर डिसऑर्डर का पता कैसे कर लिया?

विशाल ने ब्लॉग में यह सवाल भी उठाया कि आखिर दो महीने से भी कम समय में थेरेपिस्ट ने यह पता कैसे लगा लिया कि सुशांत बाइपोलर डिसऑर्डर से जूझ रहे थे? वे कहते हैं, “मेंटल डिसऑर्डर का पता लगाना बहुत मुश्किल काम है। किसी के बाइपोलर (I या II) के बारे में पता करना और भी मुश्किल। न केवल आपको किसी इंसान को करीब से जांचना होता है, बल्कि उसे काफी लंबे समय (शुरुआती लक्षणों से डाइग्नोज होने तक करीब 6 साल का वक्त लगता है) तक भी देखना होता है। सुसान ने दो महीने से भी कम समय में (कुछ ही अप्वाइंटमेंट में) इसके बारे में पता कर लिया।”

‘ट्रीटमेंट की मांग रिया ने की थी, सुशांत ने नहीं’

विशाल लिखते हैं, “सुसान ने न केवल पब्लिक डोमेन में जानकारी लीक करने का दुस्साहस किया है, बल्कि अपने बयान में स्पष्ट रूप से यह भी कहा है कि ट्रीटमेंट की मांग रिया ने की थी, खुद सुशांत ने नहीं। अक्टूबर-नवंबर- 2019 से पहले जो लोग सुशांत के साथ रहे हैं, उनमें से तो किसी ने उनकी मेंटल हेल्थ के बारे में कोई शिकायत नहीं की थी।”

रिया की भूमिका पर उठाया सवाल

विशाल ने रिया की भूमिका पर भी सवाल उठाया है। उन्होंने लिखा है, “एफआईआर में दावा किया गया है कि रिया सुशांत को साइकोट्रोपिक ड्रग्स देती थीं (संभवतः उनकी जानकारी के बगैर)। 21वीं सदी में गुप्त और धोखे से किया गया इलाज भी गैरकानूनी है। अक्टूबर-नवंबर- 2019 में अचानक शुरू हुए इन मेंटल हेल्थ इश्यूज के कई स्पष्टीकरण हो सकते हैं। हो सकता है कि यह गुप्त और मनोवैज्ञानिक दवाओं का असर हो और फिर शायद इस बहाने से उन्हें साइकोथेरेपिस्ट के पास ले जाया गया हो?”

रिया ने क्यों संभालकर रखे मेडिकल हेल्थ इश्यूज के सबूत?

विशाल के मुताबिक, रिया सुशांत को थेरेपिस्ट के पास ले जाती थीं और उनके सेशंस के वक्त वहां मौजूद रहती थीं। शायद इसलिए कि वे उनकी बातचीत पर ध्यान रख सकें। उन्होंने यह आरोप भी लगाया कि रिया ने मेंटल हेल्थ इश्यूज के एविडेंस अपने पास संभालकर रखे, ताकि वे इनका इस्तेमाल उन्हें ब्लैकमेल करने के लिए सकें।

वे लिखते हैं, “थेरेपिस्ट के ऑफिस में रिया की मौजूदगी मतलब, सुशांत के पास डिस्कशन करने के लिए कोई प्राइवेसी नहीं थी। अगर वे किसी बात को लेकर चिंतित थे तो वह था रिया का गैसलाइटिंग और ब्लैकमेल करना। ऐसा लगता है कि सुशांत को पब्लिक डोमेन में मौजूद जानकारी के आधार पर रिया के हाथों गैसलाइटिंग का सामना करना पड़ा।”

‘रिया इस केस में प्राइम सस्पेक्ट हैं’

बकौल विशाल, “पब्लिक डोमेन में मौजूद सबूतों और एफआईआर में किए गए दावों के मुताबिक, रिया इस केस में प्राइम सस्पेक्ट हैं। अगर कोर्ट में यह पाया जाता है कि सुशांत के उनके परिवार और दोस्तों के साथ सभी रिश्ते खत्म करने वाली रिया चक्रवर्ती उन्हें सच्चा प्यार करती थीं, मौका परस्त नहीं थीं। तो यह पूरे देश के लिए चौंकाने वाला होगा।”

क्या कहा था सुसान वॉकर ने?

शनिवार को एक इंटरव्यू में सुसान ने दावा किया कि सुशांत बाइपोलर डिसऑर्डर से जूझ रहे थे। उन्होंने कहा, “सुशांत डिप्रेशन और हाइपोमेनिया के दौरों के कारण बहुत तकलीफ में थे। रिया उन्हें बहुत सपोर्ट कर रही थीं। पहली बार जब मैं उनसे बतौर कपल मिला तो सुशांत के प्रति रिया की चिंता, प्यार और सपोर्ट देखकर प्रभावित हुआ था। यह इस बात का सबूत था कि वे दोनों एक-दूसरे के कितने करीब थे। रिया अप्वाइंट लेती थी और उन्हें हिम्मत बंधाती थी। जब वे गंभीर रूप से बीमार पड़े तो रिया ने उनका ख्याल मां की तरह रखा।”

सुशांत सुसाइड मामले से जुड़ी ये खबरें भी पढ़ सकते हैं:-

1. सुशांत के बैंक स्टेटमेंट से खुला राज:रिया चक्रवर्ती ने 5 बार पूजा-पाठ के नाम पर निकाले थे पैसे, परिवार का दावा- पैसे का इस्तेमाल सुशांत पर जादू-टोने के लिए किया गया

2. सुशांत के दोस्त सिद्धार्थ पिठानी पर उठे सवाल:वकील विकास सिंह का दावा- 25 जुलाई तक सिद्धार्थ रिया के खिलाफ बोल रहे थे, अब अचानक पलट गए

3. सुशांत सुसाइड केस:एफआईआर दर्ज होने के बाद रिया चक्रवर्ती का पहला रिएक्शन, रोते हुए हाथ जोड़कर बोलीं- मुझे न्याय व्यवस्था पर पूरा भरोसा, जीत सत्य की होगी

4. सुशांत सुसाइड केस:अभिनेता के सीए ने किया उनके पिता के आरोप का खंडन, बैंक डिटेल साझा कर बोले- सुशांत के खाते से रिया को कोई बड़ी रकम ट्रांसफर नहीं की गई

0


Source link

Leave a Comment